Friday, September 18, 2009



जो लोग अपने बचपन को याद करते रहते हैं....
दरअसल वे कभी बच्चे रहे ही नहीं ...

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 5:47 PM
Categories: Labels:

3 comments Links to this post  

Friday, November 7, 2008


जब हम यकीन करते हैं तो
जितना होता है, उससे ज्यादा ही कर लेते हैं...


है न दोस्तों??

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 6:25 PM
Categories: Labels:

4 comments Links to this post  

Thursday, November 6, 2008


'' चित्र कभी पूरा नहीं होता
बल्कि दिलचस्प जगहों पर ठहर जाता है..."


Posted by Posted by अंगूठा छाप at 9:35 PM
Categories: Labels:

2 comments Links to this post  

अरसा हो गया था ब्लॉग से बिछडे हुए ...


दोस्तों ...जिंदगी की रफ़्तार कुछ बदल गई थी बीते दिनों ... काफ़ी कुछ रचा इस बीच ....


फितरत से फनकार हूँ ........

हाँ इस बीच किशोर कुमार फुल टाइम साथ रहे .......



अपना और आपका...

अंगूठाछाप

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 12:38 AM
Categories: Labels:

3 comments Links to this post  

Sunday, July 20, 2008


न ये चांद होगा...

20 जुलाई/शनिवार/रात आठ बजकर पचास मिनट





वैसे कहां होश रहता अपन को कि आज मशहूर गायिका गीतादत्त की पुण्यतिथि है। वो तो भला हो संजय पटेल (http://joglikhisanjaypatelki.blogspot.com/) और यूनुस खान ( http://radiovani.blogspot.com/ ) का कि ये दिन सुरीला कर दिया। सो आज कुछ नहीं किया, बस गीतादत्त के गमों को साझा करता रहा... दिन भर।
अंगूठा छाप

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 8:41 PM
Categories: Labels:

2 comments Links to this post  

Friday, July 18, 2008


कविता मित्र की, पसंद मेरी
18 जुलाई/शुक्रवार/दस बजकर चालीस मिनट पर

गुफा


शुरू होता है यहां से
भय और अँधेरा

भय और अंधेरे को
भेदने की इच्छा भी

शुरू होती है यहीं से।
-कुमार अंबुज

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 10:46 AM
Categories: Labels:

4 comments Links to this post  

Thursday, July 17, 2008


ऐसी आबादी और कहां...!

17जुलाई/गुरूवार, सुबह दस बजकर पचास मिनट

अरे ब्बाप रे! अपने यहां रेल में जैसी बमचकबाजी या हूलगदागद देखने को मिलती है वो तो कुछ भी नहीं है बंधु!!
तनिक ये वीडियो तो मुलाहिजा फरमाएं। मेड इन चाइना है । इस लिंक पर क्लिक करें - http://video.google.com/videoplay?docid=5031425949179516003&hl=en

Posted by Posted by अंगूठा छाप at 10:45 AM
Categories: Labels:

6 comments Links to this post